कुछ लम्हें

कुछ लम्हें  जिंदगी में ऐसे कैद हो जाते है ,

दिल दिमाग पे जैसे हावी हो जाते है,

किसको अपना बनाने की जिद पकड़ लेते है ,

कभी उनको खोने के डर से आँखें आंसू बहा देते है ,

कुछ लम्हें जिंदगी में कुछ ऐसे ही कैद हो जाते है ….

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s